जब सलीम ने बताया- हम हैं “मिरासी’…

0
saleem master

नई गाड़ी पर कई हंसी वाली बातें सुनाईं

मिरासी एक खानाबदोश कौम है अौर गायक सलीम को इस पर गर्व है। कहते हैं एक बार गायक बब्बू मान ने उन्हें मिरासी होने पर चिढ़ाया था। सलीम ने बिना किसी का नाम लिए इस बात का जवाब एक कार्यक्रम के दौरान स्टेज से दिया था। इस वीडियो को यूट्यूब पर देखा जा सकता है।
बताने वाले बताते हैं कि एक बार गायक बब्बू मान ने सलीम को कहा था- जो मर्जी कर लै रहणा ते मरासी है। शायद इसी बात का जवाब सलीम ने इस कार्यक्रम में दिया।
saleem master
वीडियो में सलीम कहते हैं-
लोग गाना सुनने के बाद अकसर कमेंट करते हैं- है तो आखिर मिरासी ही। एेसा सुनना बुरा लगता है- लेकिन उन्हें ये भी पता होना चाहिए हमारे बाबा भाई मरदाना थे। जो गुरु नानक देव जी के साथ रहे।
हम पर गुरू नानक महाराज जी का ही आशीर्वाद है जो थोड़ा-बहुत गा लेते हैं। बाकी जो मेहनत करता है, उसे फल जरूर मिलता है। हमें थोड़ा ज्यादा इसलिए मिल जाता है क्योंकि हम सुबह से ही मिन्नते करने लग जाते हैं।

एक बात सुनाते हुए सलीम कहते हैं- सर्दियों में एक मिरासी ठंड से मर गया। ऊपर रब्ब के पास पहुंचा। उन्होंने देखा कि इसने काई बुरा काम तो किया नहीं, इसे स्वर्ग भेज दिया जाए। वहां परियों ने उसे पंखा झुलाया, तो वो वहां पर भी मर गया। दरअसल,हम मिरासी ना तो ज्यादा गर्मी सहन कर सकते हैं ना ही ठंड।

कुर्ते-चादरे पर कौन बैल्ट लगाता है…

वीडियो में फिर वे अपने बारे में कहते दिखते हैं- मेहनत की थी, रब्ब ने इसके बदले रेंजरोवर दिलवाई नही तो मरासी की कहां इतनी पहुंच। मैंने अपने छोटे मामे को कहा आओ मामा जी आप को रेंजरोवर गाड़ी में झूला दूं। हम थोड़ा ही आगे गए थे कि पुलिस ने रोक लिया- पूछा मामा ने सीट बैल्ट क्यों नहीं लगाई? मामा कहने लगा- ओ शदाईया चादर-कुरते के साथ कौन बैल्ट लगाता है?
जब लोग हमे मिरासी कहते हैं तो कभी-कभी अच्छा भी लगता है…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here